ALL उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश : कोरोनावायरस 😷 के प्रति लिए गए सरकार के निर्णय क्या सही है ❓
March 19, 2020 • यश त्रिवेदी

उत्तर प्रदेश:  सरकार के प्रदेश मे 3 साल पूरे हो गए है क्या उनके किये गए वादे क्या पूरे हुए है❓ सरकार अपनी उपलब्धिया गिनाने मे व्यस्त हैै। नाकि दुनिया मे बढ़ती कोरोना वायरस नामक बीमारी का पूर्ण रूप से इलाज करने मे। 

सरकार चिंता मुक्त वो इस महामारी के प्रति अपने कर्तव्यों को ऐसे निभा रही है , जिसे पूर्ण रूप से दिखावा भी कहा जा सकता है। क्या मानव जीवन का मूल्य मात्र  4 लाख रुपये है। जिसे देकर सरकार मरने वाले पीड़ित से पीछा छुड़ाना चाहती है। 

सरकार द्वारा उठाये गए कदम कुछ इस प्रकार है-

● सभी रेस्टॉरेंट और होटलों को बंद करवा दिया गया।

● मसाज पार्लर और सैलून को बंद करवा देने के आदेश दिए जीएम

● सरकार ने सभी प्राइवेट और गवर्नमेंट कर्मचारियों को घर से काम करने के आदेश दे दिए है।

● शहर मे धारा 144 लगाने पर चिंतन हो रहा है ।

● सभी परीक्षाए रद्द करा दी गयी 

क्या सरकार द्वारा उठाये गए कदम मानव जन~जाती के लिए उचित और सहायक है या उनकी परेशानियों के बढाने के आदेश है।

सभी नागरिक और जनता द्वारा अपने संरक्षण के लिए उच्य से उच्य तरीके अपनाये जा रहे हैं। पर सरकार को इतने ठोस कदम उठाने के बजाए लोगो मे शांति का माहौल और जागरूकता फैलाने की आवश्यकता है।

लोग रोजमर्रा की चीज़ों को नही खरीद पा रहे , सब्ज़िया, फल, इत्यादि।सरकार ने इन सब दुकानों और मंडियों पर भी रोक लगा दी है, क्या इससे रोज़मर्रा की ज़िंदगी पर असर नही पड़ेगा। 2020-21 मे रेपो दर 1.75 %तक घटा सकता है आरबीआई,  देश की अर्थव्यवस्था गिरती चली जा रही है, शेयर बाजार लुढ़कता चला जा रहा देश आने वाले समय मे आर्थिक तंगी की चपेट में आ सकता है।

सवाल बस इतना सा है सरकार द्वारा उठाये गये कदम कोरोनावायरस के प्रति सही है। प्रदेश मे इस महामारी से संक्रमित होने वालो की संख्या 15 पहुच गयी है। और ना जाने कितने ऐसे लोग होंगे जिनकी गिनती ही नही है। 

ऐसे मे सरकार द्वारा उठाये गए कदम खोखले साबित होते है। दुनिया भर मे जहां 77000 लोगो को इस बीमारी से निजात मिल गया वहा क्या हमारी सरकार इस कोरोना वायरस से हिम्मत हार गई है❓